मंगलवार, जनवरी 26, 2010

हमारे गणतंत्र के साठ वर्ष

सर्वप्रथम सभी भारतीय नागरिकों को भारतीय गणतंत्र की साठवीं वर्षगांठ पर हार्दिक बधाई।

साठ वर्ष का समय कम है या ज्यादा, इस चीज को निर्धारित किया जायेगा इस बात से कि यह कालखंड किस संदर्भ में है। इस कोण से देखें तो एक राष्ट्र के लिये साठ वर्ष कुछ विशेष मायना नहीं रखते, परंतु देखने वाले जब मनुष्य हों तो यह बहुत छोटी अवधि भी नहीं है। एक इन्सान, यदि वह सौभग्यशाली हो तो इतने समय में जीवन की अनेक अवस्थाओं से गुजरता हुआ, विभिन्न झंझावातों से जूझता हुआ खासा अनुभवी हो चुका होता है। उधर एक देश के हिसाब से, वो भी भारत जैसे देश के लिये, अपने गणतंत्र की साठवीं या सतरवीं वर्षगांठ मनाना अधिक से अधिक अपनी शैशवावस्था से किशोरावस्था में पदार्पण ही लगता है।

देशनामा पर खुशदीप सहगल जी का इसी संदर्भ में लिखा गया पोस्ट बहुत अच्छा लगा। उन्होंने कई सवाल उठाये जो हमें सोचने पर मजबूर करते हैं कि इस उपलब्धि पर हमें संतुष्ट होना चाहिये या नहीं। वैसे तो साठवें साल का बहुत महत्व है, लेकिन मायने ’मैन टू मैन एंड सिच्युएशन टू सिच्युएशन’ बदलते हैं। कोई खाया-अघाया व्यक्ति जहां साठ साल पूरे करने को ’सीनियर सिटीजन’ बनने की खुशी मनाने का अवसर समझता है, एक निम्नवर्गीय कर्मचारी के लिये इस उम्र में पहुंचने का मतलब होगा कि अपनी जिम्मेदारियों को पूरा करने में वह पहले से भी ज्यादा अक्षम हो जायेगा। लेकिन यहां बात हम अपने देश के गणतंत्र के साठ साल पूरे करने की बात कर रहे हैं तो वही बात है कि ’आधा गिलास खाली है या आधा गिलास भरा।’ आज हमें अपने देश पर इतराने के लिये बहुत बातें हैं तो मंथन करने के लिये भी बातों की कमी नहीं है। जी.डी.पी. विकास दर, सर्विस एंड मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में विपुल कार्यबल, चमकते और जगमगाते नगर, रिसर्च क्षेत्र में प्रभावशाली उपस्थिति आदि कुछ बातें जहां हमें अपनी तरक्की के गीत गाने के लिये उकसा रहे हैं, पर्दे के पीछे से अशिक्षा, कुपोषण, भ्रष्टाचार, गरीबी, महंगाई, कट्रटरवादिता, आतंकवाद, बिजली-पानी और आवास जैसी मूलभूत जरूरतों की अनुपलब्धता जैसी समस्यायें और भी ऊंची आवाज में चीखकर इस ’इंडिया शाईनिंग’ की छवि को धूमिल कर रही हैं। तरक्की तो हुई है पर क्या इस तरक्की का असर समाज के सभी वर्गों तक पहुंचा है, इस सवाल पर ईमानदारी से सोचें तो शायद दिमाग चकरा जाये। अरबपतियों की संख्या ज्यादा होना, उड्डयन सुविधायें ज्यादा सुलभ होना या ब्रांडेड उपभोग्य वस्तुओं की मांग बडना इस बात का पैमाना नहीं कि भारत ने समग्र विकास कर लिया है, जिस दिन इस देश का हर नागरिक भरपेट भोजन सम्मानजनक तरीके से प्राप्त करते हुये अपने परिवार का भली-भांति पोषण करने में सफल होगा, उसी दिन सही मायने में हमारे लिये होली, दिवाली, ईद, स्वाधीनता दिवस या गणतंत्र दिवस होगा। और हमें आशा रखनी चाहिये कि ’वो सुबह कभी तो आयेगी’ बल्कि ’वो सुबह लाई जायेगी’।

ऐसे ही किसी गणतंत्र दिवस की कामना करते हुये, पुन: सभी भारतवासियों को बधाई।

5 टिप्‍पणियां:

  1. आमीन. संजय जी बहुत ही सुन्दर आशावादी रचना. बधाई.
    गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  2. संजय जी,
    सबसे पहले ...आप आये हमारे ब्लॉग पर खुदा की कुदरत हैं.....अगर ये कहूँ की आपने आज मेरा दिन बना दिया ..तो अतिश्योक्ति नहीं होगी....आपकी फरमाईश ज़रूर कोशिश करुँगी पूरी करने की....
    अब बात आपके आलेख की.....आपकी आशा के साथ मेरा विश्वास भी बैठा जाए तो कैसा रहेगा....??? जी हाँ हम होंगे कामयाब ..मन में है विश्वास ....भारत की स्वतंत्रता को साठ ही वर्ष ही हुए हैं अभी...हम चाहे 'उसे साआआठ ' कह कर लम्बा कर दें ..फिर भी एक देश जिसने अपनी शुरुआत खजाने में (-) से और हर तरह की मुसीबतों में (+) से की हो ..प्रगति अच्छी मानी जायेगी...पकिस्तान को देख कर खुश होना चाहिए हमें... अमेरिका जैसा भी देश अपनी आज़ादी की स्वर्ण जयंती बहुत पहले मन चुका है....इसमें कोई शक नहीं प्रगति की रफ़्तार थोड़ी धीमी है..लेकिन ये भी सोचिये ..हम आगे एक कदम चलते हैं और पीछे दो कदम जाते हैं...याद कीजिये आतंकवाद ने अभी अमेरिका को चपेट में लिया है...जब की आतंकवाद का शिकार भारत बचपन से ही रहा है...फिर भी इससे अकेला जूझता भारत ...आज जहाँ खड़ा है...उसके लिए हमें अपनी पीठ हर हाल मेंठोकनी चाचिए....हम हर हाल में उस देश से बेहतर हैं...जिस देश की दो इमारतें गिर गयीं तो लोगों के चूल्हे बंद हो गए...
    अगर आतंकवाद और भ्रष्टाचार भारत से ख़त्म हो जाए तो सोने की चिड़िया बनाने से कौन रोकेगा इसे भला ...??
    एकदम सार्थक, सटीक और सामयिक आलेख...बहुत अच्छा लगा आपको पढ़ना...
    बस लिखते रहिये ऐसे ही...

    उत्तर देंहटाएं
  3. आशा ही नहीं विश्वास सा है कि हिन्दी ब्लॉगरी से एक नया चमकदार व्यक्तित्त्व जुड़ा है। ढेर सारी शुभकामनाएँ। कल जल्दी में था इसलिए बस 'समर्थक' बन कर चला गया था। आज पढने के पश्चात टिप्पणी कर रहा हूँ।
    कहीं कहीं वर्तनी की त्रुटियाँ हैं, ठीक कर लीजिए। मुझे टोकने की आदत है, आशा है बुरा नहीं मानेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत स्वस्थ और सुंदर भाव, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. संजय जी,
    मैं तो सिर्फ इतना जानता हूँ कि २०० साल के राज में अंग्रेजों ने हमसे १०००००००००००० (एक लाख करोड़) लुटा और सिर्फ ६४ साल के राज में नेताओं ने हमसे ४०००००००००००००० (चार सौ लाख करोड) लुटा. आपका पोस्ट पढ़ने लायक है. कुछ सुझाव है: लेबल कहीं नहीं दिख रहा. अगर उसे लगाएं तो आसानी होगी. साथ हीं आपका जो दाहिने ओर का लेआउट है उसे दो के बजाय एक कालम का बना दें. ऐसे हीं लिखते रहें.
    नीलाभ वर्मा
    www.itsmycountdown.com | www.nilabh.in | www.dharmsansar.com

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।