सोमवार, फ़रवरी 22, 2010

एक कदम और


आज सागर नाहर जी की एक पुरानी पोस्ट पढ़कर ये प्रयोग किया है, देखते हैं कैसा नतीजा आता है। सफ़ल हो गये तो बल्ले-बल्ले, नहीं तो हमेशा की तरह थल्ले-थल्ले। बहरहाल, सागर जी तो धन्यवाद के पात्र बनते ही हैं।



Powered by eSnips.com
वैसे अपनी पसंद भी शायद निराली ही है।

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपका प्रयोग तो सफल रहा यानि बल्ले बल्ले ही रही। श्रेय देने के लिये धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. badhiya hai.
    -Sagar ji ki purani posts mein aur bhi bahut si jaankariyan [podcast sambandhit ]kaam ki hain..

    उत्तर देंहटाएं
  3. dono gaane bahut sundar lage..
    khaas karke ..mera poocho pata na dildaara main aawaara ik banjaara...

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।