बुधवार, जून 15, 2011

आधे अधूरे......


उस दिन ऑफ़िस में कनैक्टिविटी नहीं थी और काम बीच में फ़ँसा हुआ था। मैं और बॉस, हम दोनों ही ऑफ़िस में रुके थे और बाकी स्टाफ़ चला गया था।  कहते हैं कि पिछले कई साल में एक बार अमेरिका में बिजली गई थी, और बहुत से लोग ऐसे थे जिन्हें तब जाकर याद आया कि आसमान की तरफ़ देखे हुये उन्हें एक जमाना गुजर चुका था। जरूरत ही नहीं पड़ती थी।  हम भी तो उन्हीं नक्शे कदम पर हैं। यातायत और संचार के साधन इतने तेज हो चुके हैं और हमें अपनों से यूँ ही कुछ  बात करने का मौका नहीं मिलता। और खुद अपने से बात करने की तो फ़ुर्सत ही किसे है?

वो दिन शायद ऐसा ही था जब खुद अपने से बात होनी थी।    एकदम से बॉस कहने लगे, “संजय जी, एक बात बताओ, क्या इस दुनिया में कोई पूरा है, कम्पलीट?” 

अचानक ये सवाल सुनकर मैं भी हैरान रह गया। मेरे अपने ही सवालों का हल नहीं ढूँढ पाता और ये साहब मुझसे ही पूछ रहे हैं। उन्होंने फ़िर से अपना सवाल दोहराया। मैंने अब उनसे ही पूछा, “सरजी,  किसी की मृत्यु होनेपर पंजाबी में क्या कहते हैं?”

उन्होंने बताया, “फ़लाँ पूरा हो गया है, ऐसा बोलते हैं।”   

“सरजी, मेरे हिसाब से तो इसीमें आपके सवाल का जवाब है। हम सब अधूरे हैं, एकदम अधूरे और अपने अधूरेपन में ही मस्त हैं। गाफ़िल हैं इस सच्चाई से कि इस दुनिया में संपूर्ण कोई नहीं। कूछ हैं, जिन्हें इस बात का अंदाजा है और वो अपने  अधूरेपन की लहर को किसी समंदर में मिलाने की कोशिश भी करते हैं। और उनमें से भी विरले हैं, जो ये कर पाते हैं और अपनी कोशिश में कामयाब होते हैं।”   

बॉस कहने लगे, “तो इसका मतलब ये हुआ कि इस दुनिया में कोई तो होंगे ही ऐसे जो संपूर्णता को प्राप्त हुये?”

मैंने कहा, “मैं शायद अच्छे से बात स्पष्ट कर नहीं पाया, सरजी, जो संपूर्ण हो गया फ़िर वो इस दुनिया से ही गया। पंजाबी में कहते हैं न, फ़लाँ पूरा हो गया।”

सरजी हमारे पता नहीं सच में पूछ रहे थे कि आपकी तरह मजे ले रहे थे लेकिन अपने को सोचने को मुद्दा दे गये। कई  बार कहा करते हैं, “त्वाडी हिम्मत है यार, अकेले रहते हो। मैं तो सच में इसीलिये गाँव में रहने से डर गया था कि  तुम्हारा ट्रांसफ़र हो गया तो अकेला रह जाऊँगा। टाईम कैसे बीतेगा, ये सोचकर भी डर जाता हूँ।” 

मैं सोचता हूँ कि आदमी अकेलेपन से क्यों डरता है? क्यों अकेलेपन से तारतम्य बैठाना इतना मुश्किल लगता है? मेरी संवेदनायें शायद काम करना बंद कर रही हैं, मुझे क्यों भीड़भाड़ से दिक्कत और अकेलेपन में सहज लगता है?   आधा अधूरा रहना ही अपनी नियति है, ऊपर से ये गाना क्या सुन लिया, समय का मालूम ही नहीं चलता  कि कैसे बीत गया। गाने के बोलों से इत्तेफ़ाक न रखते हुये भी एक मासूम दिल के सवाल कोंचते तो हैं। कभी दुख भी होता है और कभी हँसी भी आती है जब पूछा जाता है कि ’की खट्टया(कमाया) मैं तेरी हीर बनके।’   कमाने के लिये प्यार किया था?   पागल न हो तो ….  आधे अधूरे ही रह लो जब तक इस दुनिया में रहना है,  पूरे हो गये तो हो जाना है हैप्पी बड्डे:)

36 टिप्‍पणियां:

  1. क्या बाऊजी आप भी
    कभी-कभी इतना सीरियस कर देते हो कि लगता है हम संबुद्ध होने ही वाले हैं।

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  2. सही है इन्सान पूरा होने के बाद ही पूरा होता है|

    उत्तर देंहटाएं
  3. संजय भाई समय का आभाव है........ पूरी पोस्ट ढनग से नहीं पढ़ पाया ........ पर "वो पूरा हो गया" : दिल को छू गया .....

    मेरी भी फिलोसोफी यही है की हम अधूरे हैं....... और पूर्णता की और अग्रसर हैं. वो दिन होगा जब हम 'पुरे' ह जायेंगे.. आप मानोगे नहीं... कई बार लगता है की जो कुछ हो रहा है वो नाटक है ..... बस विसल बजने की देर है और पर्दा गिर जायेगा... उसके बाद सारे प्रोजेक्ट धरे रह जायेगे ... हमारी महत्वकान्क्षाये बस हमारे साथ पञ्चतत्व में वालीन हो जायेंगी.... जीवन का तथ्य यही है ......

    तुम सोचोगे... बाबा को अपना ब्लॉग कम था जो यहाँ बक बक छेड़ दी....... क्या करें दोस्त.... हिन्दुस्तान है .. जिसको पेंट का पोंचा पकडवा दो वही गिरेबान पर हाथ डालता है.... रही बात बाकिम चंद्र चट्टर्जी की "आश्रय पाकर तो कुत्ता भी मुंह चाटने लगता है"

    जय राम जी की.

    उत्तर देंहटाएं
  4. पूरा हो गया को बुंदेलखंडी (मैं बुंदेलखंडी नहीं) में कहते हैं 'शांत हो गया' अभिव्‍यक्ति और अस्तित्‍व का चरम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये गलत बात है. हमारा आईडिया चोरी हो गया. एक तो पता चला किसी ने किताब लिख मारी है इस आईडिया पर:
    http://www.amazon.com/Undecided-Endless-Perfect-Career-Life-Thats/dp/1580053416/

    और अब आप भी :) अब मैं कह भी लूं कि मेरा आईडिया था तो कौन मानेगा ;)

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम पूर्ण नहीं हैं, इसीलिए तो इंसान हैं। अगर कोई पूर्ण होता है तो फिर वह बुद्ध कहलाता है या महावीर।
    कभी-कभी कुछ क्षण के लिए दार्शनिक हो जाना पूर्णता को झांकने की कोशिश करना है। ऐसी कोशिश करने वालों को अकेलापन प्यारा लगता है और ऐसे इंसान ही सही अर्थों में इंसान होते हैं।

    संजय जी, आपकी यह प्रस्तुति अच्छी अगी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. पूरा हो जाना दूसरों के लिए पीड़ादायक होता है. आधा अधूरा ही भला है.

    उत्तर देंहटाएं
  8. Mrityu hee ek poorn viram hai...anyatha sab kuchh chalta hee rahta hai....!Adha adhura!

    उत्तर देंहटाएं
  9. हर कोई संपूर्णता को प्राप्त करना चाहता है और एक न एक दिन पूरा हो जाता है. वैसे खुदी में खुद से बात भी गजब बात है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. @आसमान की तरफ़ देखे हुये उन्हें एक जमाना गुजर चुका था।
    हां अमरीकी अब चन्द्र अभियान से तो काफी आगे निकल चुके हैं

    @क्या इस दुनिया में कोई पूरा है, कम्पलीट?”
    complete failure?

    @हमारा आईडिया चोरी हो गया
    अल्लाह करे मीर का जन्नत में मकाँ हो
    मरहूम ने हर बात हमारी ही बयाँ की

    उत्तर देंहटाएं
  11. ईश्वर करें आपका और आपके बॉस का काम कभी पूरा न हो :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. @ Abhishek Ojha:
    अरे हम मानेंगे न भैय्ये, इल्ज़ाम मान लेने के ऑलटाईम रिकॉर्डहोल्डर हैं:)

    उत्तर देंहटाएं
  13. जीवन भर अधूरे ही रहते हैं ...पूरे हुए नहीं की चल दिए अपना लव लश्कर उठा कर

    उत्तर देंहटाएं
  14. सही है पूर्ण होने के बाद तो जय श्री राम है जी। सही चिंतन है। एकदम सटीक।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सही कहा है पूरा तो मरने के बाद ही होता है
    सभी अपूर्ण है

    उत्तर देंहटाएं
  16. मेरे एक परिचित कहने लगे की चलिए चार धाम यात्रा कर आते है मैंने कहा की जो चार धाम अभी कर लिया तो बुढ़ापे में क्या करेंगे तब क्या गोवा कश्मीर घूमना अच्छा लगेगा ये सब चीजे तो बुढ़ापे के लिए रख रखी है | वैसे ही इन विषयों पर अभी सोच लिया तो रिटायर्मेंट के बाद किन विषयों पर सोचेंगे :) इसलिए फ़िलहाल तो हम अधूरे ही भले अभी पुरे होने की कोई इच्छा नहीं है |

    जहा तक बात अकेले रहने की है तो वो तो आदत पर निर्भर है जब जिसको जिस चीज की आदत लग जाये दूसरी चीज बुरी लगने लगती है |

    उत्तर देंहटाएं
  17. एक चुटकुला याद आया आप की टिप्पणी से, फरहाद शिरी के प्यार में पागल हो कर पहाड़ पर चढ़ गया और वहा जा कर शिरी शिरी चिल्लाने लगा निचे खड़ा आदमी बोला, कम्बखत जब ऊपर चढ़ा था तब नहीं सोचा की नीचे कैसे उतरेगा अब ऊपर चढ़ कर सीढ़ी मांग रहा है :)))

    बड़के ब्लोगर के ठाठ है स्कुल गये और कह दिया की ट्रांसफर केस है बच्चो को एडमिशन दे दीजिये और तुर्रा ये की आज ही हो जाये सारे काम कल काम पर वापस जाना है , और मिल गया एडमिशन | पर बेचारे आम आदमी के बच्चो को न तो इतने आसानी से एडमिशन मिलता है और मिल भी गया तो महिना लगेगा बच्चे को स्कुल में सेटेल करने में उसकी किताबे कापी और सेलेबस न जाने क्या क्या , अब आप के जैसे सभी के ठाठ थोड़े ही है चाहे ८pm वाले या १०pm वाले :))

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी पोस्ट आज के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    चर्चा मंच{16-6-2011}

    उत्तर देंहटाएं
  19. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. संजय बाउजी! इन दिनों बस इसी को जानने में लगा हूँ.. सीख रहा हूँ "पूरा होने" की कला!!शायद कुछ अधूरापन मिटे!!

    उत्तर देंहटाएं
  21. पूर्णतया (ठीक है इस जगह ऐसा शब्द?) सहमत!
    अलावा इसके, jigsaw puzzle के टुकड़े आपस में बहुत गहरे मित्र होते हैं, इसमें संशय तो कभी रहा ही नहीं है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. अब तो अधूरापन अच्छा ही लग रहा है !

    उत्तर देंहटाएं
  23. अभी के हालात में तो अपने इस छुटके को भी "पूरा-हुआ" ही मान लीजिये :)

    उत्तर देंहटाएं
  24. हमने प्रतिक्रिया दी तो थी पर वो बेचारी आधी अधूरी भी नज़र नहीं आई :)

    उत्तर देंहटाएं
  25. और हमें अपनों से यूँ ही कुछ बात करने का मौका नहीं मिलता। और खुद अपने से बात करने की तो फ़ुर्सत ही किसे है?

    शायद आपके इसी कथन के लिए स्वामी विवेकानंद ने कहा है,

    "Talk to yourself once in a day otherwise you may miss to meet An Excellent person in this world "

    उत्तर देंहटाएं
  26. सर जी,पूरा हो जाने के बारे में पढ्कर लगा अधूरा होना कितनी बडी नियामत है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत कम लोग हैं जिन्हें पता है कि अकेला होना कितना दुर्लभ है आज..

    उत्तर देंहटाएं
  28. सही-सही और खरी-खरी लिखा है आपने।मेरे ब्लॉग पर आ कर मेरा होंसला बढाए !
    Download Movies
    Lyrics Mantra+Download Latest Music

    उत्तर देंहटाएं
  29. अकेलेपन में मनुष्य अपने वास्तविक शक्तियों को केन्द्रित कर अभीष्ट तक पहुच सकता है ..
    फिर घबराना कैसा अकेलेपन से..

    उत्तर देंहटाएं
  30. कुछ लोग तो कहते हैं मर कर फिर जनम लेते हैं याने पता नहीं, कभी पूरे होते हैं भी या नहीं ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. संजय भाई,आपका आलेख कुछ दिन पहले पढ़ा था.
    लेकिन तब लगता था कि चार्ज लेने और देने में ही मैं पूरा हो जाऊंगा.
    लेकिन मैं अधूरा ही रहा और आपको टिप्पणी कर रहा हूँ.

    आप जैसे मेरे एक बड़े भाई एक प्रयोग बतलाते हैं कि कभी कभी बन्दे को खुद को पूरा हुआ समझना लेना चाहिए.ज़िन्दगी की सारी फिलासफी समझ आ जायेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  32. किसी ने कहा है....

    लाश थी
    इसलिये तैरती रह गयी
    डूबने के लिए
    ज़िंदगी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  33. पडौसी भाई
    नैनीताल गया था, आज पढी है ये पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।