रविवार, मार्च 04, 2012

community gap and\or communication gap

36 टिप्‍पणियां:

  1. एक बार पहले भी सिर झुकाया था.. और आज भी!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कोई जरूरत नहीं है आपको, सलिल भैया और कोई औचित्य भी नहीं।

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. हाँ जी बिल्कुल, उनकी भी जय जय और आपकी भी जय जय:)

      हटाएं
  3. To be very honest, it ain't basically a communication gap even, it in a raw assumption, not even a calculated hypothesis.
    And thinking of any reason behind unreasonable is simply waste.
    वैसे जाने ये समझ भरी बातें धूप और बरसात को क्यों नहीं समझ आयीं।
    वरना होती छतनार धूप पंजाबियों के सर चुन चुन और बरसातें किन्ही गुजरातियों, असमियों, बंगालियों.... इत्यादि-इत्यादि के सर।
    खैर! सब समझदार ही होते तो गुलाबों के बाग़ होते भला? :)

    P.S.: हमें बेवकूफियाँ मुबारक रहे।

    P.P.S.: फत्तू को आज फिर से देखा, ऑन डिमांड, ससम्मान फत्तू से आने का आग्रह किया जाए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. agreed, that's why I didn't ask for a reason. It was just an attempt to portray different attitudes.

      निर्दोष बेवकूफ़ियाँ मुबारकबाद के ही काबिल हैं। इत्ता सम्मान पाकर फ़त्तू शरम से लाल हो रहा होगा:)

      हटाएं
  4. वोई तो..!!
    इसमें इतना सोचना क्या है जी...
    अब ई झूठ थोड़े ही है...पंजाबी पुत्तर नशेड़ी तो होते ही हैं...उनको कई तरह का नशा होता है जी...जैसे काम का नशा, मेहनत का नशा, कला का नशा और तरक्की करने का नशा...
    पंजाब ने जितनी तरक्की की है, क्या वो किसी सबूत का मोहताज़ है...?
    पूरे विश्व में पंजाबियों ने जो अपना मकाम बनाया है उसके लिए अब का कोई हलफनामा देवें हम..!!
    आज दुनिया में हिन्दुस्तान की पहचान बन गए हैं ..'पंजाबी'
    आप भी न...!!
    कहीं आपको सोचने का नशा तो नहीं...हा हा हा...
    अरे सोचना ही है तो आपकी अगली धाँसू पोस्ट का होगी ई सोचिये न...ई बेफजूल की बात में काहे उलझे हैं...महराज..!!
    हाँ नहीं तो..!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वोई तो..!!
      हम तो पंजाब और पंजाबियों की तरक्की में पूरे देश के योगदान को मानते ही हैं, उसके लिये हलफ़नामा देवें का?
      अब सोचने का नशा भी छोड़ना ही पड़ेगा, हाँ नहीं तो..!!

      हटाएं
  5. पूर्वाग्रह से ग्रसित होना एकदम उचित नहीं, हर व्यक्ति एक जैसा नहीं होता. लेकिन किसी भी सेक्ट के बहुसंख्य लोगों के बारे में बाकियों की धारणा का प्रतीक भी है. इस बारे में हम लोगों को आत्मावलोकन भी करना चाहिए कि ऐसी धारणायें क्यों बना ली जाती हैं.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जब तब आत्मावलोकन का प्रयास करते हैं, सबको करना भी चाहिये।

      हटाएं
  6. नशा ही तो बहाव लाता है जीवन में..

    उत्तर देंहटाएं
  7. सघन और सार्थक अंतराल.
    (कुछ ऐसा ही लिखना होगा हमें कि जो न खुद समझें न कोई दूसरा, फिर भी कोई समझ ही ले तो हमें भी समझा दे... होली की तैयारी हो ली है.)

    उत्तर देंहटाएं
  8. "सबसे सरल उपाय दिमाग की खिड़कियाँ-दरवाजे खुले रखना।"...:-)और तबसे खुले हुए हैं।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. किस महान व्यक्ति का कथन है, ये पता चले तो सहमत या असहमत होंगे:)

      हटाएं
  9. वह पोस्ट और टिप्पणी दोनों देखे थे। सच पूछो तो भारत को इतनी अच्छी तरह देखा है कि उस वाक्य को देखकर न आश्चर्य हुआ और न दया आई। इतने दुःख की बात है कि इतनी विविधताओं वाले देश में रहते हुए भी पढे-लिखे लोग भी बचपन से अपने कुएं के मेंढक दल की श्रेष्ठता और बाकी सब के ये-वो होने की बात को न केवल बर्दाश्त बल्कि स्वीकार सा करते आये हैं। जैसा कि अर्चना जी ने कहा दिमाग की खिड़कियाँ, दरवाज़े खुले रखना पड़ेगा और यह प्रयास करना पड़ेगा कि वर्षों में बने दुराग्रह अगली पीढियों तक जाने से बचें। व्यक्तिगत रूप से मैं (समझदारी नाम के दुर्लभ गुण के अलावा) अंतर्जातीय विवाह को इस बीमारी का एक इलाज़ मानता हूँ। दूसरा इलाज़ है - जातिसूचक भेद-वाक्य आदि को हेट-क्राइम नामक अलग कैटेगरी मे लाना। मगर इन सब से पहले एक दूसरे को समझने की कोशिश ज़रूरी है। अब सोचना छोड़ो और जो भी पास में बैठा हो उसके साथ एक-एक कप खुशबूदार चाय पियो।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संवाद होता है तो दोनों के पास समझने का चांस रहता है, चुप रहें तो दोनों के अपने कुंये में रहने का ज्यादा चांस है। संबंधित पक्ष मेरे खुद के लिये बहुत सम्मानित व्यक्तित्व हैं, इसीलिये ये जोखिम उठाया वरना तो और बहुत सी जगह दूर से ही प्रणाम करके चले आते हैं। आपके बताये दोनों इलाज विचारणीय हैं।
      खुशबूदार चाय\काफ़ी हो ली, आईडिया आपके स्तर का ही था। उसके लिये अलग से धन्यवाद।

      हटाएं
  10. लो जी हमें भी दो दिन ही पहले पता चला की मेरे पास कमाल की बनिया बुद्धि और सोच है और बनिया को बस अपना लाभ कमाना और सौदेबाजी करना आता है :)))

    http://indianwomanhasarrived.blogspot.in/2012/03/blog-post_02.html?showComment=1330936825285#c7136920351441513580

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हम तो पहले से ये मानते हैं जी, जबसे सरकार ने विज्ञापन छपवाये थे कि - देश के अच्छे नागरिक ’बनिये’ :)

      हटाएं
  11. सोच बदले तो समाधान भी बदल जाएँगे।
    दशाएँ बदले तो दिशाएँ बदल जाएगी!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विनम्र अनुरोध - अपन दिशा सुधारना ज्यादा जरूरी समझते हैं, दिशा सही होगी तो देर सवेर दशा भी सुधरेगी।

      हटाएं
    2. दशा से अभिप्रायः आर्थिक दशा नहीं था बल्कि लिंग-अनुपात की दशा और मांग व पूर्ति से दिशा पलट जाने का भाव था।

      हटाएं
  12. पंजाबियों से पंगा मत लो जी।

    उत्तर देंहटाएं
  13. देखा जाये तो हम सब में एक समानता है कि हम सब इंसान हैं। इसके बाद के सभी वर्गीकरण हमारे खुद के बनाये हुये हैं।

    यह एक ऐसी सच्चाई है जिसे लोग कभी नहीं समझ पाएंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  14. मै भी सोंच रहा...हरभजन से लेकर भगत सिंह क्रांति सेना तक सभी के द्वारा थप्पड़ मारने में उस्तादगीरी के पीछे इस बात कनेक्शन हो सकता है क्या...

    उत्तर देंहटाएं
  15. link padh aaya.....kumarji gambhir blogger hain saath hi swasth se
    juri jankari pradan karte hain....achhe vyakti hain......kuch galat
    kah gaye to uspar unhe vichar karna tha.......bakiya, aapke jaise
    mast...vindas ko 'kahin kuch laga' to mane lete hain kuch aur bhi
    baat ho sakta hai......khair, jane bhi do yaaro........

    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कुमारजी के बारे में कही सब बातों से अपनी भी सहमति है, वो भी पहले से ही।
      खैर, नामराशि हो तो और सहमत हो लेते हैं:)

      हटाएं
  16. ऐसे ही अनर्गल प्रलापों ने राष्ट्र का भंटाधार किया है। हम अच्छे, दूसरे बुरे । जाति विरोधी, क्षेत्र विरोधी लोकोक्तियाँ हमें एक राष्ट्र के रूप में समृद्ध होने से रोकती हैं। किसी जाति में सभी बुरे या भले नहीं होते। दुःख तब और भी होता है जब साहित्य प्रेमी, पढ़े लिखे कहलाने वाले लोग ऐसी तकियानूसी टिप्पणियाँ करते हैं। मजाक के तौर पर भी ऐसा नहीं करना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. कई बार बात संक्षेप में कही जाये तो उसके कई अर्थ निकल जाते हैं, मैंने शायद अपने हिसाब से ही अर्थ निकाला हो। हर घटना से हम एक नया अनुभव तो प्राप्त करते ही हैं।

      हटाएं
  17. संजय जी नमस्कार,

    मेरी राय में राधारमण जी के पूर्वाग्रह उनके कुछ व्यक्तिगत अनुभवों पर आधारित हैं जिन्हें उन्होंने सभी पर एक समान रूप से हांक दिया हैं जोकि गलत है. राधारमण जी की गलती ने आपकी पुरानी पोस्टों की याद दिला दी. ऐसे दाग या (दागदार लोग) अच्छे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ’भये प्रकट कृपाला दीन दयाला..’
      मेरे शुरुआती दौर के मित्र पाण्डेय जी,
      नमस्कार,अपका हाईबरनेशन खत्म करने वाले ’दाग अच्छे हैं।’ आशा है सक्रियता जारी रहेगी।

      हटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।