रविवार, दिसंबर 07, 2014

देश-विदेश


मास्टरजी ने बच्चों से पूछा, "अंटार्कटिका कहाँ है?"
बालक चुप।
"एंडीज़ पर्वत श्रृंखला किस किस देश से होकर निकलती है?"
बालक चुप।
"बाल्टिक सागर की लोकेशन बतायेगा कोई?"
बालक चुप।
मास्टरजी ने खूब डाँटा, "सुसरयो, घर में पड़े रहे हो और आँख फ़ोड़ो हो टीवी, कंप्यूटर में। थोड़ी घणी बाहर की जानकारी भी रख्या करो।"
फ़त्तू ने डरते डरते एक प्रश्न पूछने की अनुमति माँगी, "मास्टर जी, आप बता सको हो कि मलखान कौन सै?"
मास्साब ने सोचा और उसीसे पूछा, "कौण सै मलखान?"
फ़त्तू बोला, "मास्साब, गोभी खोदन लग रया सै थारी। थोड़ी-घणी घर की भी जानकारी रख्या करो।"
---------------------------------

नेपाल में ये शानदार स्वागत हुआ, अमेरिका-आस्ट्रेलिया लूट लिया, सारी दुनिया से लोहा मनवा लिया।

कोई शक नहीं कि इससे हमारा भी सिर गर्व से ऊँचा हुआ है लेकिन परधान मास्टर जी, हमारी समझ

में घर का ध्यान पहले रखना चाहिये। कोई शक नहीं कि हमारी सोच और जानकारी और आपकी

सोच और जानकारी एक बराबर नहीं हो सकती। इसमें भी कोई शक नहीं  कि फ़ेसबुक पर हमारे 

लिखने से आप तक ये बात पहुँचने वाली भी नहीं लेकिन आप अपने ’मन की बात’ रेडियो पर कर सकते 

हैं तो हम भी अपने ’मन की बात’ तो यहाँ करेंगे ही। छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले, कश्मीर में

सीरियल अटैक - इन सब पर अमन के दुश्मनों की बौखलाहट, चुनाव में भारी मतदान से उनका चिढ़ना,

भारत को उकसाने की कोशिशोंं जैसे बयान कोई  सांत्वना नहीं पहुँचा रहे हैं। हमारे जवान पहले भी मर

 रहे थे, अब भी मर रहे हैं। इनका जान देना ही नियति है तो फ़िर कोई  सरकार हो, कोई फ़र्क नहीं पड़ना। 

वर्दी पहन लेने भर से कोई किसी का भाई, बेटा, पति, पिता होने से मुक्त नहीं हो जाता।


अपने लोगों की लाशों पर नहीं चाहिये हमें सारी दुनिया का सम्मान और वाहवाही। करिये बहिष्कार 

हर उस सम्मेलन का और हर उस कांफ़्रेंस का जिसमें देश के दुश्मनों की भागीदारी होती हो फ़िर वो

चाहे देश के बाहर के हों या अंदर के। ये सोच सोच कर दिमाग खराब हुआ पड़ा है कि मानवाधिकार क्या

सिर्फ़ आतंकवादियों के होते हैं या इन शहीदों के भी कोई अधिकार होते हैं?

10 टिप्‍पणियां:

  1. ऊँचाई पर जाकर यह कहाँ दिखाई देता है कि पैरों के नीचे क्या है... कहीं रेड कारपेट और कहीं रेड ब्लड में शहीदों की लाशें!! स्वच्छता अभियान में कूड़े बुहार कर कूड़ेदान के दिन बहुराते हुये कब शहीदों की ख़ून सनी वर्दियाँ कूड़ेदान की शोभा बढाने लगीं... पता ही नहीं चला!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। आप हमारे इस blog को भी पढं सकते हैं, मुझे आशा है कि ये आपको जरूर पसंद आयेगा। जन सेवा करने के लिए आप इसको Social Media पर Share करें या आपके पास कोई Site या Blog है तो इसे वहां परLink करें ताकि अधिक से अधिक लोग इसका फायदा उठा सकें।
      Health World in Hindi

      हटाएं
  2. ये प्रश्‍न तो प्रधान जी से आज हर कोई पूछना चाहता है। और उनसे गले मिलने की भी क्‍या जरूरत आन पड़ी संसद भवन में, जिन जैसों के अपेक्षित विरोध में बोल कर प्रधान जी प्रधानी अस्तित्‍व में आए।

    उत्तर देंहटाएं
  3. एकदम सही बात --"घर अँधेरा देख तू , आकाश के तारे न देख ..

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति मंगलवार के - चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मलखान हमारे हियाँ चन्द्रिका है!

    उत्तर देंहटाएं
  6. मुझे आपकी blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
    Health World in Hindi

    उत्तर देंहटाएं
  7. बात में तो दम है जी...
    दुनिया से पहले हम हैं जी

    उत्तर देंहटाएं
  8. हैल्थ बुलेटिन की आज की बुलेटिन स्वास्थ्य रहने के लिए हैल्थ टीप्स इसे अधिक से अधिक लोगों तक share kare ताकि लोगों को स्वास्थ्य की सही जानकारिया प्राप्त हो सकें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. इन प्रधानमंत्री से इसकी उम्मीद है... आपने सही कहा, दुनिया के जिस सम्मलेन, समूह और सेमिनार में "आतंक के समर्थकों" की मौजूदगी हो, उसका बहिष्कार करिए... अब और लहू इस धर्म धरा पर नहीं बहना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।