मंगलवार, जनवरी 01, 2013

अपील


                                                                     
देश के हर नागरिक को गरिमामय जीवन बिताने का अधिकार है और बलपूर्वक या छलपूर्वक इस अधिकार का कोई हनन करे तो यह अन्याय है। इस अन्याय को रोका जा सके, ऐसी अपेक्षा रखना हम नागरिकों का अधिकार भी है और कर्तव्य भी।

इस देश के एक आम नागरिक की हैसियत से मैं प्रशासन, न्यायपालिका और कार्यपालिका से अपील करता हूँ कि स्वयंसिद्ध जघन्य बलात्कार के मामलों में फ़ास्ट ट्रैक अदालतों का गठन किया जाये और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाये ताकि ऐसे कुकर्मों को रोका जा सके।

ब्लॉगर साथी श्री गिरिजेश राव द्वारा  इस विषय पर तैयार जनहित याचिका  का मैं भी समर्थन करता हूँ।

------------------------------------------------------------------------------------------------------------

इस विषय पर कोई सुझाव आपके पास है तो पांच जनवरी 2013 तक न्यायमूर्ति वर्मा की समिति को निसंकोच भेज सकते हैं।

ई मेल: justice.verma@nic.in
फैक्स: 011- 23092675

14 टिप्‍पणियां:

  1. मैं भी प्रशासन, न्यायपालिका और कार्यपालिका से अपील करता हूँ कि स्वयंसिद्ध जघन्य बलात्कार के मामलों में फ़ास्ट ट्रैक अदालतों का गठन किया जाये और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाये ताकि ऐसे कुकर्मों को रोका जा सके।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैं तो सिर्फ इतना ही कहना चाहूँगा इस समय सोच समझकर कम करो
    <a href = "khotej.blogspot.in>फ्री डाउनलोड </a>

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब और नहीं सहा जाता देश की शीर्ष सत्ता का निरादर.. नारियों के सम्मान के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं होता.
    .....दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जाये

    उत्तर देंहटाएं
  4. देश को श्रेष्‍ठ बनाने का बीडा उठाना ही होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस अपील में हमारी आवाज़ भी शामिल हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस अपील में मेरी आवाज शामिल है और मन वचन कर्म.

    उत्तर देंहटाएं
  7. is post ko apne blog pe re-post kiya sabhar likhna bhool gaya.....kshama karenge........


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  8. एक अच्छे काज के लिए इस मुहिम को जोरदार समर्थन

    उत्तर देंहटाएं
  9. ek achchhe kary ke liye mera bhi samrthan..kuchh sujhav mere bhi


    1) nirbhaya jaise clear cut cases me teen din mo e police se charge sheet summit karne ka kah kar sirf forensik report me lagne vala samay tak intajaar ho jo ki earliest time hoast track court me saja sunai jaye. or victim ko fansi kavas me badalne ka pravdhan khatm kiya jaye. i saja ka pravdhan ho.

    2) nabalig ladkiyon se balatkaar aur hatya ke prakran me ek mahine ke bheetar fansi ki saja ho aur is saja me apradhi ki daya yachika par fansi ko aajeevan karavas me badalne par rok ho.

    3)bujurg ya 50sal ya jyada ki umra ki mahila se balatkaar ke aaropi ke liye bhi nabalig ladkiyon jaise hi saja ke pravdhan hon.

    4) ladkiyon ke sambandh me unke pahrave,mobile upyog karne,unki azadi par comment karne vale netaon sansadon vidhayakon ya sarkaari seva me adhikariyon ke bayano ki ek saptah me jaanch kar unki pension band karne,unhe suspend karne jaise pravdhan ho.

    5)kam se kam 400 vidhayk sansad rajneeti me hai..hame mil kar justice verma aayog ko sujhav dena chahiye ki balatkaar ke liye banaye jane vale kade kanoon ke tahat aise logo ko tikit diya jana nishedh ho jin par kabhi bhi balatkaar ya chhedchhad ke aarop lage hon.
    jab aam aadami ke liye kanoon ban sakta hai ki chhed chhad karne par licence radda kiya jayega to in netao ke liye aisa kanoon kyon nahi???

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमे चाहिये देश भर में बलात्कारों के विरूद्ध फास्ट ट्रैक कोर्ट।..इस मांग का जोरदार समर्थन करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. निश्चय ही, यह याचिका पूर्णतया क्रियान्वयनयोग्य है।

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।