सोमवार, जुलाई 06, 2015

बहुत दिया देने वाले ने मुझको.....

लगभग चार साल पहले की बात है, यह तय था कि मेरा ट्रांसफ़र होने वाला है। मार्च मध्य आते आते बच्चों की परीक्षायें समाप्त हुई और मैंने उन्हें अपने पैतृक घर में शिफ़्ट कर दिया। अपने लिये वहाँ पंजाब में एक कंप्यूटर, मोटरसाईकिल और थोड़ा सा रोजमर्रा काम आने वाला सामान रख लिया और गांव में ही किराये पर मकान लेकर रहने लगा। मेरा ट्रांसफ़र चार महीने बाद हुआ तब तक हर शनिवार दोपहर वहाँ से चलकर दिल्ली आता रहा। 
अब अपनी कुछ अजीब सी आदतें बता दूँ। खुद कच्ची-पक्की बनाकर खाने में या  सड़क पर किसी ठेलीवाले से पूड़ी सब्जी से पेट भरने में कोई परेशानी नहीं लेकिन मकानमालिक या पड़ौसी लाख जोर दे लें तो भी किसी न किसी बहाने से टाल दिया करता था। दूसरे पेय पदार्थों की तुलना में पानी को वरीयता दे दिया करता हूँ लेकिन रेलवे स्टेशन या बस स्टैंड पर लगे नल से मुझसे पानी कभी नहीं पिया जाता। कंजूस आदमी हूँ, खरीदकर पानी पीना अय्याशी लगती है तो बहुत समय से एक आदत है कि घर से निकलते समय पानी की बोतल बैग में जरूर रहती है। खैर, जिस बात का जिक्र कर रहा हूँ वो पढ़िये।  
गर्मियाँ शुरु हो चुकी थीं, हर शनिवार दोपहर को जब बैंक से दिल्ली के लिये निकलता तो ठंडे पानी की बोतल बैग में होती। मोटरसाईकिल पर शहर तक आना, फ़िर बस से लुधियाना आना, वहाँ से रेलवे स्टेशन तक आना और गाड़ी का इंतजार करते हुये प्लेटफ़ार्म पर खड़े होना - इस सब में दो घंटे के लगभग तो लग ही जाते थे। यानि घर पहुंचने में अभी सात आठ घंटे बाकी। पूरे विचारमंथन के बाद गाड़ी के प्लेटफ़ार्म पर आते-आते १५-२० रुपये खर्च करके एक ठंडे पानी की बोतल और खरीद ली। सोचा, सीट मिलने के बाद तसल्ली से पानी पिया जायेगा। 
जब सीट भी मिल गई तो बैग में हाथ मारा, दो बोतल। धर्मक्षेत्रे कुरुक्षेत्रे अर्जुन भी उतना किंकर्तव्यमूढ न हुआ होगा, जितना मैं हो गया। जो बोतल बैंक से भरकर चला था उसका पानी हल्का सा ठंडा था और जो अभी खरीदी थी उसका पानी एकदम ठंडा। किस बोतल से पानी पहले पिया जाये? मैंने कई बार बैग की चैन बंद की, कई बार खोली और फ़िर बंद की। साथ वाली सीट पर बैठा सवारा भी अजीब तरह से मुझे देख रहा था। मेरे दिमाग में उधेड़बुन चालू थी - अभी हल्की ठंडी बोतल से पानी न पिया तो बाद तक ये एकदम गर्म हो जायेगा। इसे पहले पिया तो जब तक दूसरी का नंबर आयेगा, उसकी भी ठंडक जाती रहेगी। गाढ़ी कमाई के १५-२० रुपये खर्च कर रखे हैं, पेड़ पर तो पैसे लगते नहीं। उधर हलक सूखता जा रहा है।
हर शनिवार को ये समस्या आती रही। मैंने भी सारे उपलब्ध विकल्प अपना लिये। सर्वमान्य हल नहीं निकलना था तो नहीं निकला। एक बार तो घर पहुँचने तक दोनों बोतलें खोली ही नहीं। नौबत ये आ गई कि मुझे शुक्रवार से ही टेंशन होने लग जाती थी। ये तो धन्यवाद है उस परमात्मा का कि मेरा जुलाई में दिल्ली ट्रांसफ़र हो गया नहीं तो मैंने यहाँ आपको दिखना नहीं था, कहीं और ही होता और कर रहा होता ’ओ पड़दी गिड़्गिड़ दी, एंक्स दी बेंध्याना दी’ :)  :)
अभी कुछ दिन पहले तक मैं पलवल में पोस्टेड था। हमारे बैंक का एक ग्राहक आया और नमस्ते करके पीछे बेंच पर बैठ गया। मेरी नजर पड़ी तो मैंने बुलाया, "हाँ ...... जी, क्या काम था?" वो बोला, "कोई खास बात नहीं, अभी आप बिज़ी हो। कर लो काम।" कुछ देर बाद मैंने फ़िर बुलाया और उसका वही जवाब सुना तो सच कहूँ थोड़ा खीझकर कहा कि बताओ यार, भीड़ तो लगी रहेगी। वो अपने साथ अपने MBA किये लड़के को लाया था, कहने लगा कि थोड़ा गाईड कर दो इसे नौकरी वगैरह के बारे में, इसलिये लाया हूँ। क्या गाईड करता उसे? मैं जो चार महीने में सोलह शनिवार तक ये तय नहीं कर पाया कि किस बोतल का पानी पहले पियूँ, मैं गाईड करूंगा उसे? अब ध्यान नहीं उसे क्या उल्टी सीधी पट्टी पढ़ाई कि दोनों बाप-बेटे नमस्ते करके चले गये।
जब तब कोई अपने से ज्यादा पढ़ा लिखा और ज्यादा काबिल दोस्त फ़ोन पर अपनी कोई समस्या शेयर करता है और सलाह मांगता है तो मैं कुरुक्षेत्र के मैदान में खड़ा अर्जुन बन जाता हूँ। मेरे हाथ पैर शिथिल होने लगते हैं, पसीने आने लगते हैं मुझे। 
मैं तुम्हें सलाह दूँगा? 
मैं? जो आज तक नहीं समझ पाया कि किस बोतल का पानी पहले पियूँ...................... 
मैं, जो आजतक ये नहीं समझ पाया कि जिंदगी में किस चीज को पहली प्राथमिकता देनी है...
मैं सलाह दूँगा तुम्हें?..........................................................

23 टिप्‍पणियां:

  1. आप जैसा व्यक्ति आत्म-प्रशंसा के दुर्गुण से दूर रहता है। वह अच्छी तरह जानता है कि अपने मुख से अपनी तारीफ़ करना ओछे व्यक्तियों का लक्षण है। कहा भी गया है---" बड़े बढ़ाई न करे बड़े न बोले बोल। हीरा मुख से कब कहे मेरा लाख टका है मोल॥"

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. प्रणाम सर!
      किसी दिन इस अपने मुँह से अपनी बुराई वाले मामले पर भी लिखूंगा।
      अपना मामला एकदम उल्टा है :)

      हटाएं
  2. इन्हीं कुछ सवालों के लिये सिक्के पर हैड-टेल बनाये गये हैं, इस्तेमाल किय़ा किजिये सिक्के का :-)

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे सर बोतल में पानी के साथ बरफ भी भर लेते तो यूँ पशोपेश में ना पडते।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. जी दीदी, अगली बार ध्यान रखूंगा।

      हटाएं
  4. ऐसी दुविधा हो तो राष्ट्रीय पेय चाय पीनी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब हम लींबू वाली पीण लग गये हैं जी :)

      हटाएं
  5. :)
    आप अकेले नहीं है। ऐसी कई दुविधाएँ हम भी ना समझ पाये आज तक ! -

    https://twitter.com/aojha/status/604057931739357184

    https://twitter.com/aojha/status/604062542223294466

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप तो हमसे आगे ही पायेंगे सरकार..बैरी कूल के क्या हल्ले हैं?

      हटाएं
  6. HAPPY INDEPENDENCE DAY
    सुन्दर व सार्थक रचना प्रस्तुतिकरण के लिए आभार..
    मेरे ब्लॉग की नई पोस्ट पर आपका इंतजार...

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतनी कन्जूसी किस काम की भाई साहब, कि घर तक प्यासे ही गये

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरा सहारनपुरिया, बहुत दिन में आया भाई :)

      हटाएं
  8. भाई जी, कहाँ हैं ? कुशल से तो हैं? इस के अतिरिक्त कोई साधन भी तो नहीं है आपसे संपर्क साधने का.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सब कुशल है शर्मा जी। नौकरी ने वो कर रखी है ले....:) थोड़ा बहुत समय मिलता है तो फ़ेसबुक पर छिटपुट छेड़छाड़ कर लेते हैं। आईये कभी उस गरीबखाने में भी, स्वागत रहेगा।

      हटाएं
  9. दिल्ली मुबारक....पानी पीने में सोचना पड़ जाता है कई बार....सच्ची जब कोई ये पूछने आता है कि नौकरी करूं या बिजनेस...मजा आ जाता है...दोनो का ही अजीब सा अनुभव है....हैरानी और खुशी होती है कि लोग कितना काबिल समझते हैं..वो तो अपन को अपना हाल पता ही होता है....हीहीहीहीहीहीही..

    उत्तर देंहटाएं
  10. जब ठंडी बोतल खरीद ही ली तो पहले उसे पी लेना ही अच्छा ..नहीं तो काम तो चल ही जाता ......
    अनुभव भी किसी अच्छी खासी डिग्री से कम नहीं होती ....
    बहुत अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।