मंगलवार, जुलाई 01, 2014

झाड़ू-नमक

मेरे बाँये पैर के अंगूठे के ठीक ऊपर एक मस्सा था जो जन्म से नहीं था बल्कि मेरे कुछ बड़े हो जाने के बाद हुआ था। हालाँकि वो मस्सा आकार में चने के बराबर था लेकिन पैर के अंगूठे पर होने के कारण एकदम से सबका ध्यान नहीं जाता था।  उन्हीं दिनों मेरी गर्दन और छाती पर छोटे छोटे तिल-मस्से निकल आये। परिजनों का ध्यान जाता तो मुझे कहा जाता कि किसी डाक्टर वगैरह को दिखाओ। मैं यही मानता था कि कोई हार्मोन कम ज्यादा होने से ऐसा हो गया होगा, सीरियसली नहीं लिया।

ऐसे ही एक बार रिश्ते के एक भैया  ने इस पर गौर किया और मेरी अच्छे से क्लास लगाई। उन्होंने अपना किस्सा बताया कि उनकी गर्दन पर भी इसी तरह बहुत से मस्से हो गये थे और नौबत ये आ गई थी कि शेविंग करते समय टॉवल खून से सन जाया करता था। बताने लगे कि उन्होंने इसीलिये दाढ़ी रखी थी। हालाँकि जब हमारी बात चल रही थी उस समय वो इस समस्या से मुक्ति पा चुके थे। उनका खुद का आजमाया हुआ आसान सा तरीका उन्होंने मुझे भी बताया, "सहारनपुर में नौ गज़ा पीर की मजार पर एक बार झाड़ू और नमक चढ़ाया जायेगा और ठीक होने पर एक बार फ़िर से यही चढ़ाने की मन्नत माँगी जायेगी, कुछ ही दिनों में तिल और मस्से खुद झड़कर गिर जायेंगे। प्रत्यक्ष प्रमाण तुम्हारे सामने मैं खुद खड़ा हूँ।" चूँकि वो आयु में और रिश्ते में मुझसे बड़े थे और मेरी परवाह भी करते थे, उनकी डाँट मैंने गंभीरता से सुनी। हमेशा की तरह इस बार भी इरादा भी सिर्फ़ सुनने का ही था लेकिन शायद वो भी मेरी भावना समझ गये और सिर्फ़ भाषण और परामर्श देकर चुप नहीं बैठ गये बल्कि एक पारिवारिक एकत्रीकरण में सबके सामने वही आजमाया हुआ नुस्खा क्रियान्वयित करने का आदेश पारित करवा करके माने। पारिवारिक पंचायत के सामने मुझे भी झुकना पड़ा कि जब भी सहारनपुर जाना हुआ. ये काम यकीनन निबटाया जायेगा।

सहारनपुर शहर से बाहर निकलते ही ’नौगजा पीर की मजार’ के नाम से एक स्थल है। विशेषतौर पर जुमेरात को माथा टेकने वालों की खासी भीड़ वहाँ होती है और स्वाभाविक रूप से लगभग सभी हिन्दु मतावलंबी होते हैं।  इस स्थल की मुख्य मान्यता वही है जो ऊपर लिखी, ’अवांछित तिल/मस्सों का सूखकर झड़ जाना।’ बाई-प्रोडक्ट्स के रूप में हिन्दु-मुस्लिम एकता, गंगा जमुनी तहज़ीब वगैरह मुलम्मे तो हैं ही। कुछ दिनों के बाद सहारनपुर जाना हुआ तो हम भी रास्ते का आईडिया लेकर गये और अनमने ढंग से नमक-झाड़ू की रस्म अदायगी कर दी गई। ये किसी धार्मिक मजार की अपनी पहली और आखिरी विज़िट थी।

जब तब मुलाकात होने पर भैया द्वारा मेरी गर्दन और आसपास के इलाके का मुआयना किया जाता। चूँकि पूछे जाने पर मैंने कहा था कि मैं वहाँ हो आया हूँ और झाड़ू-नमक भी चढ़ा आया हूँ तो मुझ पर झूठ बोलने का आरोप तो भैया ने नहीं लगाया लेकिन अंतत: घोषित कर दिया कि मैंने वहाँ सच्चे दिल से मन्नत नहीं माँगी होगी। 

उस विज़िट के दस-बारह साल बाद सन २००७ के एक दिन सर्जन ने दस मिनट के एक ऑपरेशन में मेरे अंगूठे का वो मस्सा काट दिया। 

ज्ञानचक्षु अपने अब भी नहीं खुले, आज से पन्द्रह साल पहले उस समय तो खैर क्या ही खुले होने थे। उस समय अपनी सोच ये थे कि पीर ही सही लेकिन जिसे नौ गजा बताया जा रहा है, उसी अनुपात में उसकी शक्तियाँ बखानी जा रही होंगी। अपने को ज्यादा अजीब सा तब लगा जब पंजाब जाते समय अंबाला के पास भी इसी नाम की एक मजार देखी।  हम तो एक पीरजी के कद को लेकर ही गणित लगा रहे थे और ये दूसरे भी? एक ही बंदे की बेशक वो पीर ही क्यूँ न हो, दो जगह मजार कैसे? और अगर अलग अलग पीरों की मजार है तो ऐसे और कितने होंगे?  हालाँकि बाद में कुछ सूचनावर्धन अवश्य हुआ। जो दिखता है, वही संपूर्ण सत्य नहीं है बल्कि नेपथ्य में बहुत कुछ है। नेट पर देखा तो पाया कि अकेले भारत में ऐसी एक दो नहीं बल्कि हजारों मजारें हैं। 




कुछ दिन से शिर्दी वाले साईं बाबा के बारे में भी कई चर्चे हैं। लोग आक्रामक रूप से पक्ष में हैं या विपक्ष में, वहीं कुछ (बहुत से) लोग किंकर्तव्यमूढ़ से हैं। एक मित्र का फ़ोन आया और वो इस मुद्दे पर मेरी राय जानना चाह रहे थे। उस समय तो टाल दिया लेकिन  मैं क्या राय दे सकता हूँ? इतना जरूर है कि बहुत सी बातें सोचने विचारने वाली  हैं। घटनाओं का पैटर्न देखिये, प्रभाव देखिये।  व्यक्तिगत संबंधों में दिल और दिमाग में दिल को वरीयता देना बहुत बार त्याग का सूचक होता है लेकिन जब किसी गतिविधि का प्रभावक्षेत्र व्यष्टि से समष्टि की तरफ़ होता हो तो अपने दिमाग को कुछ कष्ट देना चाहिये।  दूसरों की राय पर आँख मूँदकर न चलें, सोच विचार कर खुद निर्णय लें। 

मैं किसी धार्मिक पीठ पर विराजमान कोई शख्सियत होता तो निश्चित ही इस बात का विरोध कर रहा होता कि सनातन धर्म पर ये छद्म आक्रमण बंद हों और माँग करता कि किसी दूसरे धर्म वाले को पिछले दरवाजे से मेरे भगवान से बड़ा दिखाना बंद किया जाये।

मैं कोई राजनेता होता तो शायद इस बात का विरोध कर रहा होता कि मेरी आस्था पर चोट किया जाना बंद हो। मेरी त्वरित इच्छापूर्ति की गारंटी या आत्मतुष्टि जिससे मिले मैं वो करने को स्वतंत्र बता रहा होता बेशक मेरा वो कदम राष्ट्र हित को खतरे में डाल रहा हो।

मैं भी व्यावहारिक सा फ़ैशनेबल मनुष्य होता तो जिधर भीड़ जाती दिखे, उधर मुँह उठाकर चल देता।

लेकिन मैं ये सब नहीं हूँ, हो भी नहीं सकता।  

आज अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुये अपनी जान न्यौछावर कर देने वाले अमर शहीद अब्दुल हमीद का जन्मदिवस है, उन्हें सादर श्रद्धाँजलि।






21 टिप्‍पणियां:

  1. अब लोगों को सहारनपुर जानें के लिये सलाह दिया करुँगा

    उत्तर देंहटाएं
  2. आज अपनी मातृभूमि की रक्षा करते हुये अपनी जान न्यौछावर कर देने वाले अमर शहीद अब्दुल हमीद का जन्मदिवस है, उन्हें सादर श्रद्धाँजलि।
    bas iske liye aapka aabhar anya sab bekar kee baat .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. बेकार की बात भी पढ़ने के लिये भी आपका विशेष आभार।

      हटाएं
  3. अमर शहीद अब्दुल हमीद को सादर श्रद्धाँजलि। मस्से एक विषाणु human papilloma virus (HPV) के संक्रामण से होते हैं। कई बार अपने आप ठीक भी हो जाते हैं और मामूली सर्जरी से तो निकाल जाते ही हैं। झाड़ू, नमक और बावन गज़ के पीर-फकीर बारे में क्या कहा जाय, लंका में सब बावन गज के

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. बेशक अपने आप ठीक हो जाते हों, गुलशन का कारोबार भी/ही मायने रखता है।

      हटाएं
  4. दर-दर भटकने को कोई जगह भी तो होनी चाहिए /वजह भी तो होनी चाहिए ...
    पीर-फकीर ,देवी-बाबा नहीं देखते अमीर-गरीब ,रह-रह कर थोड़ी-थोड़ी कलह भी तो होनी चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वीर और शहीद अब्दुल हमीद को श्रद्धांजलि और नमन

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब का कहीं ?

    मस्सों का तो इलाज सर्जरी से हो जाता है - बाबाओं का इलाज़ कोई मिले तो बताइयेगा जरुर .....

    उत्तर देंहटाएं
  7. abhar..........thora gyan-chakshu kholne ka.............
    shradhanjali saheed ko


    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  8. वीर और शहीद अब्दुल हमीद को श्रद्धांजलि और नमन

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्या सांई की मूर्ति,
    मस्जिद में लग सकती है ?
    गिरजाघर में लग सकती है ?
    चर्च में लग सकती है ?
    गुरूद्वारे में लग सकती है ?
    तो मन्दिर में क्यों ?
    क्या हिन्दू धर्म कोई धर्मशाला है ?
    मित्रों,
    ये धर्मयुद्ध है

    उत्तर देंहटाएं
  10. झाड़ू-नमक, पीर-फकीर या मज़ार वगैरह पर कुछ नहीं कहूँगा.. कभी माना ही नहीं इनको. लेकिन मस्से से मुझे अपनी माँ की याद आ गई. जिन्होंने मेरी अम्मा की तस्वीर देखी होगी ब्लॉग़/फेसबुक पर उन्होंने देखा होगा कि मेरा माँ के चेहरे पर तीन मस्से हैं. जब भी मैं कहता होता था कि इनको निकलवा दो सर्जरी से, तो उनका जवाब होता था, "इन्हीं मस्से के साथ जब तुम्हारे पापा ने पसन्द कर लिया मुझे, तो अब क्यों निकलवाने जाऊँ. पेट से लेकर आँख तक की सर्जरी उन्होंने बिला शिकन झेल ली, लेकिन मस्से नहीं निकलवाए!"

    उत्तर देंहटाएं
  11. अन्धविश्वास,श्रद्धा और वैज्ञानिक तर्क का द्वन्द चलता रहेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  12. ऐसे तो हमने ये भी देखा है जब क्रिकेट का मैच चल रहा होता है कुछ लोग तरह-तरह के टोटके करते हैं ,कोई उस बीच हाथ सीधा रखे रहता है. उसे लगता है जहाँ उसने हाथ टेढ़ा किया उसके खिलाड़ी पर संकट आ जायेगा,ऐसे ही और भी ....क्या किया जाय ,कोई क्या कर सकता है ?

    उत्तर देंहटाएं
  13. "इन्हीं मस्से के साथ जब तुम्हारे पापा ने पसन्द कर लिया मुझे, तो अब क्यों निकलवाने जाऊँ. पेट से लेकर आँख तक की सर्जरी उन्होंने बिला शिकन झेल ली, लेकिन मस्से नहीं निकलवाए!"
    उयही है आस्था. जिस व्यक्ति या चीज़ से दिली लगाव हो जाता है वो भगवान ही नज़र आता. असल मे हम लोग भगवान से सिर्फ चमत्कार चाहते चाहते है कर्म की थ्यूरी पर कम चलते हैं. इस लिये सनात धर्म बिखर रहा है आसाराम जैसे दुराचारी हमारी मानसिकता का फायद उठा रह हैं ,फिर भी अपना ध्यान रखें शुभकामनायें ?

    उत्तर देंहटाएं
  14. - विशेषतौर पर जुमेरात को माथा टेकने वालों की खासी भीड़ वहाँ होती है और स्वाभाविक रूप से लगभग सभी हिन्दु मतावलंबी होते हैं। -------------- वास्तविकता है------------
    - नौ गज के पीर हर शहर में आपको मिल जायेंगे.........
    - लेख का आखिर पैरा जबरदस्त है.

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।