शनिवार, अप्रैल 23, 2022

विचित्र चिंताएं

दिल्ली के साथ भी एक विचित्र सा सम्बन्ध रहा है, न हम बंधें और न ही छूट सके। जीवन में दो ही मुख्य उद्देश्य रह गए लगते हैं, दिल्ली में कुछ वर्ष रहो तो 'चलो दिल्ली से' और कुछ वर्ष दूर रहो तो 'चलो दिल्ली।' एक बार पुनः दिल्ली छूट रही है, एक बार पुनः मैं अनिश्चय की स्थिति में हूँ कि प्रसन्न दिखना चाहिए या अप्रसन्न। मेरी चिंताएं भी तो विचित्र हैं, साथी लोग बताते हैं कि मुम्बई में आवास मिलना बहुत कठिन है और मुझे चिंता है कि छाता तो नहीं खरीदना पड़ेगा?

अन्ततः यही तय पाया गया कि देखें आगे क्या होता है। और कुछ नहीं तो इस बार नॉस्टैल्जिक होने का अभिनय भी सीख लेंगे☺️


3 टिप्‍पणियां:

  1. मुम्बई में आपका स्वागत है,
    मैं ठाणे में रहता हूँ लेकिन मुम्बई आना जाना लगा रहता है, शायद इसी बहाने कभी आपसे मुलाकात हो, आपको एक लंबे समय से पढ़ रहे हैं।
    nrohilla@gmail.com

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद नीरज भाई। कौन जाने ठाणे का ही पानी पीना पड़े☺️ हमारे बैंक के मुम्बई जोन में मुंबई के अतिरिक्त ठाणे और गोआ राज्य भी आते हैं।

      हटाएं
  2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।