रविवार, जनवरी 16, 2011

इंतज़ार...भाग एक

उस दिन जब तक फ़ाईनल ड्राफ़्ट अप्रूव हुआ, रात के सात बज चुके थे। अब कहीं जाकर दिनभर का तनाव कुछ कम हुआ। सुबीर ने बैग समेटा और पैदल ही लौटने का इरादा बनाकर ऑफ़िस से   निकल लिया। बिल्डिंग के गेट तक ही पहुंचा था कि पीछे से लगभग दौड़ती हुई शुभ्रा ने आकर उसे रोका, “मैं गाड़ी निकाल रही हूँ, तुम मेरे साथ ही चलोगे।”

“जी, कोई बात नहीं, मैं आराम से चला जाऊँगा।”

“सुनो, अभी तुम ऑफ़िस की हद में हो और मैं तुमसे सीनियर। इट्स ऐन आर्डर. अंडरस्टैंड?  यहीं इंतज़ार करो मेरा।” और अपना हैंडबैग उसके हाथ में थमाकर शुभ्रा पार्किंग की ओर लपक ली।

सुबीर की बड़बड़ाहट शुरू हो गई। आठ महीने बड़ी है, मुझसे साल भर पहले ज्वऑयन भी किया है लेकिन देखो कैसे हुकम चला गई और मैं भी मर्दों के नाम पर दाग, कुछ कह नहीं पाया। सच में कितने स्लो रिफ़्लेक्सेज़ हैं मेरे? लेकिन इतना सोचते सोचते जैसे ही हैंडबैग पर ध्यान गया, तो उस हल्के से हैंडबैग ने मानो विचारों का तूफ़ान दबा दिया हो। गेट के पास लगे रात की रानी के झाड़ से उठती  महक तेज हो गई हो जैसे।

शुभ्रा ने गाड़ी उसके पास लाकर रोकी, दरवाजा खोला और बोली, “विराजिये, ऋषिवर। निश्चिंत रहिये, मैं कोई मेनका नहीं जो आपका ध्यान भंग करूंगी।  बल्कि आपको खुद सोचना चाहिये कि सर्दी की अंधेरी रात में आपकी सहकर्मी जोकि संयोग से आपके पडौस में भी रहती है,  सड़क पर अकेली जाये तो ये कहाँ तक ठीक है?”

सुबीर सीट पर बैठ गया और सोचने लगा कि क्या यही वह शुभ्रा है, जिसका एक बोल सुनने के लिये और एक मुस्कान पाने के लिये ऑफ़िस भर के सीनियर-जूनियर ऐसे भागीरथ प्रयास में लगे रहते हैं कि होता कोई और युग तो जाने कितनी गंगायें इस महानगर में अवतरित हो चुकी होतीं? सिर्फ़ अपने नजरिये से सोचता तो उसे लगता कि शुभ्रा उसपर मेहरबान हो  रही है, उसका नजरिया जाना तो खुद की सोच पर शर्म आने लगी।

“कितना सोचते हो बाबा तुम, जब देखो ख्यालों में गुम दिखते हो। बीसियों बार  कहा है तुमसे  कि एक ही ऑफ़िस में काम करते हैं, एक ही कालोनी में रहते हैं, जब मैं गाड़ी लाती ही हूँ तो साथ चला करो लेकिन नहीं। जानते हो मेरे मम्मी-पापा तुम्हारी कितनी तारीफ़ करते हैं, जबकि तुम कभी हमारे घर नहीं आये। कई बार पापा कह चुके हैं कि लड़का शरीफ़ दिखता है, अकेला रहता है कभी खाने पर बुलाओ उसे और मैं हर बार टाल देती हूँ। तुम पता नहीं क्या सोचने लगो।”  समय काफ़ी हो चुका था लेकिन सड़क पर निर्माण कार्य के चलते ट्रैफ़िक जैसे रेंग ही रहा था।

शुभ्रा ने ही फ़िर बात छेड़ी, “क्या हुआ तुम्हारे गांव की जमीन के मामले का, बहुत दिन से छुट्टी नहीं ली तुमने?”

“फ़ैसला मेरे हक में हुआ था। उसके बाद मैं सिर्फ़ एक बार और गाँव गया था, लिखापढ़ी करके जमीन भाई के नाम ही कर दी थी। गाँव-जमीन  से नाता ही  नहीं रहा,  अब छुट्टी का क्या काम?”

शुभ्रा हैरत से देखने लगी उसे, “व्हाट? तुम पागल हो एक नंबर के। उसी भाई के नाम कर दी जमीन, जिससे मुकदमा चल रहा था, आर यू मैड?”

“नो, आई एम नॉट। मुकदमा लड़ा था अन्याय का विरोध करने के लिये और स्वेच्छा से जमीन भाई के नाम की है ताकि सारी उम्र उसे इस वजह से भाभी के ताने न सुनने पड़ें।  और फ़िर बाबा के जाने के बाद भाभी ने मुझे और मेरी मां को जो रोज गिनकर रोटियाँ खिलाई हैं, उनका हिसाब भी तो बराबर करना था। अब माँ भी नहीं रही, मुझ अकेले का क्या है? मेरी सैलरी बहुत है मेरे लिये।” आज बीच बीच में  शुभ्रा के चेहरे की तरफ़ देख लेता था सुबीर। 

“आज तुम अकेले हो, हमेशा तो नहीं रहोगे? कल को जिम्मेदारी सर पर आयेगी तो ये जमीन तुम्हें एक्स्ट्रा सपोर्ट देती, ये क्यों नहीं सोचा तुमने? फ़िर पछताओगे अपने फ़ैसले पर।”

“ऐसा मौका नहीं आने वाला है।”     फ़िर से देखा उसने नजर चुराकर, रात की रानी मानो फ़िर  से जैसे गमक गई हो।

गाड़ी कालोनी के गेट से अंदर घुसी तो सुबीर ने गाड़ी रोकने को कहा।

शुभ्रा ने कहा,   ”अब कहाँ रसोई में जाकर खटपट करोगे? मेरे साथ चलो, आज खाना हमारे साथ ही खा लेना।”
सुबीर हँसने लगा, “घर का खाना, गाड़ी की सवारी  इतनी ऐय्याशी एक साथ शायद हजम न हो।  आदत बिगड़ जाये तो दिक्कत होती है। बहुत बहुत शुक्रिया, लिफ़्ट देने के लिये भी और खाना ऑफ़र करने के लिये भी। बाय, गुडनाईट।”

शुभ्रा हँस दी “यू आर  एन  ईडियट, स्वीट ईडियट।”। “ठीक है, कल तो छुट्टी है, आराम से सोकर उठना। "गुडनाईट, सुबीर।” और कार आगे बढ़ा दी।

सुबीर देख रहा था कार को जाते हुये और सोच रहा था कि पागल ये बता गई, ईडियट ये बोल गई और मुझे बुरा नहीं लगा। शुभ्रा कहती तो ये  थी  कि वो  मेनका  नहीं है,  तो क्या झूठ भी बोलती है ये?  आज ये सुगंध पीछा क्यों नहीं…..

जारी..

29 टिप्‍पणियां:

  1. वापस जा-जा कर देखना पड़ा कि किस ब्‍लॉग पर हूं, क्‍या सचमुच मो सम ... पर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. दादा दास्ताँ बड़ी दिलचस्प है. पर अब फिर वही सवाल उठाएंगे सब-
    "कहानी है या संस्मरण?" :)

    वैसे मैं तो कहानी मान कर ही पढ़ रहा हूँ. अगले भाग का इंतज़ार है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये कहानी आज उनके ज़िक्र से
    मोगरे की यार डाली हो गई!!

    (नीरज जी के शेर पर थोडी कलाकारी मेरी है)
    सच है, ख़ुशबू यहाँ तक आ रही है.
    @"घर का खाना, गाड़ी की सवारी इतनी ऐय्याशी एक साथ शायद हजम न हो। आदत बिगड़ जाये तो दिक्कत होती है।"
    .
    बहुत कुछ याद दिला दिया, उनके घर जाकर ज़मीन पर बैठना, सोफ़े पर कभी नहीं. ज़िद करने पर जवाब ,"ज़मीन की आदत रही,तो सोफा आराम देगा.. मगर सोफे की आदत पड गई और ज़मीन पर बैठना पड़े तो बहुत तकलीफ़ होगी. आदत बिगड़ जाए तो बहुत परेशानी होती है."
    .
    ........................ क्रमशः

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह जी बल्ले बल्ले आज तो फत्तू की ग़ैरहाज़री भी नहीं खली :)
    भाई आपने तो बहुत ही सुंदर लिख दिया है आज...और कहीं हटकर भी.

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम ख़ामोश रहेंगे सरजी ! बस बार बार पढेंगे इसको और तब तक पढेंगे जब तक आप की ओर से "समाप्त" का टैग नहीं लगेगा। वैसे "स्टार्टर" ने जो लुत्फ़ दिया है उस से "डिनर" के स्वाद का अन्दाज़ा बखूबी लगाया जा सकता है। और हमें बड़ी जोर की भूख लग आयी है :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. कहानी अच्छी चल रही है .फत्तू भाई गैरहाजिर नहीं, शायद कहानी पढने में व्यस्त हो.

    उत्तर देंहटाएं
  7. ओहो, बहुत बढ़िया. आगे? आज ही निपटा दिए होते.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतनी भीनी भीनी महक वाली कहानी पढ़ ली, अभी तक बसी है, मन में।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आह और वाह....और कुछ नहीं.......

    उत्तर देंहटाएं
  10. दूसरी और तीसरी टिप्पणी में अपनी हुंकारी के भी स्वर हैं :)
    @“ऐसा मौका नहीं आने वाला है।” Awesome!!!
    @"रात के सात बज चुके थे।" क्या कहूँ? काश या आमीन? आमीन कहूँगा। :)
    @सुबीर देख रहा था कार को जाते हुये और सोच रहा था....
    ये नायक ही हमेशा सोचते हैं या सोचने वाले ही हमेशा नायक होते हैं?
    अजीब प्रश्न है, उत्तर नहीं चाहिए, लेकिन मैं उत्तर सोच रहा हूँ :)

    रातरानी की खुशबू वाकई है इसमें।
    इन्तजार अच्छा है, कर लेंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  11. tareef karne ka to matlab hi nahin banta...bachkani si harkat lagti hai...few things are beyond comment. to main bas haaziri laga kar jaa rahi hoon.....


    bas ek smile for u...hope u hav a great day
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  12. @“कितना सोचते हो बाबा तुम,

    हा मै भी यही पूछने वाली थी की ये नायक नायिका इतनाखुद से ही बाते क्यों करते है |
    @इतनी ऐय्याशी एक साथ शायद हजम न हो

    हमें भी एक साथ ज्यादा अच्छाईहजम नहीं होती |

    @पागल ये बता गई, ईडियट ये बोल गई

    इतनी गाली तो चलेगी :))
    एक आखरी बात ( मानेगे नहीं ये पता है ) यदि कहानी का अंत ( मालूम है लिख चुके होंगे और क्या लिखा है ये भी अंदाजा है ) नहीं लिखा है अभी तक तो वो अंत मत दीजियेगा जो आप हर बार देते है | :))

    उत्तर देंहटाएं
  13. शुरुआत अच्छी है, ये सीनियर फीमेल बॉस वाला मुद्दा भी अच्छा उठाया है आपने |

    उत्तर देंहटाएं
  14. मुकदमा लडा था अन्याय का विरोध करने के लिये………॥
    (सुबीर जरुर बडा भाई होगा)
    लगता है ये खूशबू अब पीछा नहीं छोडेगी
    हाय! काश हमें भी कोई पागल और इडियट बोलता :)

    उत्तर देंहटाएं
  15. पिछली कहानी की तरह इस इंतजार का ज्यादा इंतजार ना करवाईयेगा।

    प्रणाम

    उत्तर देंहटाएं
  16. पढके दिल बल्लियों उछल रहा है ! बस एक ख्याल कि अपने मो सम कौन ? साहब के साथ ऐसा वक़्त भी गुजरा है ! वाह ! खूब ! बहुत खूब !

    दूसरा ख्याल ये कि जमीन / झगडे / मुकदमेबाजी वगैरह वगैरह के ज़िक्र कथानक में नाटकीयता को बढ़ाने की गरज़ से ही डाले गए होंगे ? मतलब ये सारे ट्विस्ट ?

    उत्तर देंहटाएं
  17. संजय जी..
    आज एक बात कहे देते हैं....आप व्यंग लिखने में माहिर तो हैं ही, लेकिन इस विधा में भी आप पारंगत हैं ये हम नहीं जानते थे, किशोर चौधरी जी ब्लाग जगत के उत्कृष्ट अफसानागार हैं...मुझे अब उनकी फ़िक्र होने लगी है ..:)
    वैसे तो हमें मरने तक को फुर्सत नहीं लेकिन आपके 'संस्मरण' को पढ़ कर सोचने लगे कि इसे हम अपनी आवाज़ में रिकॉर्ड कर दें ..अगर आप आज्ञा दें तो...
    'संस्मरण' लाजवाब, रोचक बेहिसाब है,
    गीत में ताल रूपक और राग खमाज़ है
    रातरानी की गमक यहाँ तक आई है.....'इन्तज़ार' का बस इंतज़ार है...
    एक नई बात नज़र आई है आज यहाँ ...आईला फोटू..:)
    आपका आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  18. सर जी,
    अगले भाग के इंतज़ार में....

    उत्तर देंहटाएं
  19. @ भारतीय नागरिक:
    आशा है खुशनुमा ही लगी होगी:)

    @ राहुल सिंह जी:
    इतनी बेयकीनी क्यों सर?

    @ सोमेश सक्सेना:
    शाबाश राजा, आने वालों को राह दिखा दी संस्मरण की। अब हर कोई छेड़ेगा तुम्हारे दादा को। कोई बात नहीं प्यारे, देखी जायेगी,,,

    @ चला बिहारी...:
    सलिल भैया, लगता है फ़िर कोई चोट मोहब्बत...:)

    @ काजल कुमार जी:
    आभारी हैं अपके, काजल भाई।

    उत्तर देंहटाएं
  20. @ रवि शंकर:
    अनुज, ज्यादा लजीज की उम्मीद मत रखा करो यार:)

    @ उपेन्द्र ’उपेन’:
    आप ने चेतावनी दी थी न पिछली बार फ़त्तू को? शायद...

    @ राजेश उत्साही जी:
    फ़िर वही हुआ जी, जो न होता तो अच्छा होता।

    @ अभिषेक ओझा:
    वाह जी, जमानों को लम्हों में कैसे बांध दें?

    @ प्रवीण पाण्डेय जी:
    हमारा लोहा कूटना सार्थक हो गया सरजी, शुक्रिया।

    उत्तर देंहटाएं
  21. @ boletobindas:
    वाह न मिले लेकिन यारों की आह बहुत मायने रखती है, है न रोहित?

    @ अविनाश चन्द्र:
    उत्तर सोच लो तो बताना मुझे भी:)

    @ saanjh:
    शुक्रिया।

    @ anshumala ji:
    पता है नहीं मानने वाला मैं, फ़िर भी फ़रमाईश? ताकि शिकायत का मौका मिल जाये और अच्छे अच्छे कमेंट न करने पड़ें आपको, देखी जायेगी...))

    @ नीरज बसलियाल:
    सही में, ये भी एक नजरिया है। थैंक्स नीरज।

    उत्तर देंहटाएं
  22. @ अन्तर सोहिल:
    प्रिय अमित, हमेशा बड़ा ही नहीं भुगतता। मैं खुद बड़ा हूँ, और मेरा छोटा भाई मुझसे कहीं ज्यादा जिम्मेदार है। मैं ऐश कर रहा हूँ और वो जिम्मेदारियाँ भुगत रहा है। हमारी कहानी का नायक सुबीर भी छोटा है। और यारा, इस काश में हमें भी साथ ही समझना, अकारथ गई दिखती है अपनी भी ये जिन्दगी:))

    @ अली साहब:
    बालक तो उत्पात करते ठीक लगते हैं, आप सरीखे भी मोहर लगा देंगे तो ’मो सम’ को बेघर देखना पड़ेगा:)
    पहले खयाल को समेटकर दूसरे ख्याल को ही उन्वान करें, मेहरबानी बनाये रखें। याद रखिये पिछली पोस्ट पर दिल से दुआ दी थी आपने:))

    @ अदा जी:
    ऐसे हमारे नसीब? सपना है या सच?
    ये आज्ञा वगैरह हमारे शब्दकोष में नहीं है, बल्कि ऐसा कहकर शर्मिंदा न करें। आप तो कर ही डालिये जी फ़टाफ़ट से रिकार्ड, कहीं इरादा न बदल जाये आपका(अगर ये सीरियस वाला मजाक नहीं है तो):))
    गीत में ताल, राग जो भी है लेकिन आपके कमेंट में अतिशयोक्ति अलंकार जरूर है। लिखने के मामले में किशोर जी अपनी फ़ील्ड में अप्रतिम हैं।
    इतनी व्यस्तता में आपने समय निकाला, आभारी तो मैं हूँ जी आपका।
    सदैव आभारी।

    @ prkant:
    मुझे भी इंतज़ार है, प्रोफ़ैसर साहब:)

    उत्तर देंहटाएं
  23. आदरणीय दादा
    जब आपने बालक कहकर उत्पात की छूट दे ही दी है तो फिर अब जमकर उत्पात मचाया जाएगा। अब शिकायत मत कीजिएगा कि मेरी वजह से आपको छेड़ा जा रहा है।
    वैसे सालों बाद किसी ने बालक कहा है मजा आ गया। :)

    उत्तर देंहटाएं
  24. भाई साहब प्रणाम,
    देरी के क्षमा, क्या करू पहले BSNL और अब PCL (power corporation ltd.) मेरी ब्लोगिंग के दुश्मन हो रहे है।
    कहानी एक मस्त है, जैसे ऊपर महानुभवो ने कह ही दिया है कि “खूश्बू यहा तक आ रही है“
    सच कहानी मन को छू गयी बड़ा बेसब्री से इंतजार है इसके अगले पार्ट का (डर है कही साल भर इंतजार ना करना पडे)
    आज फत्तू की कमी नही खली

    उत्तर देंहटाएं
  25. @ सोमेश सक्सेना:
    भाई, अपनों को मजा आ जाये, और क्या चाहिये?

    @ दीपक सैनी:
    ये क्षमा जैसी औपचारिकता मत करो यार, ऐसे तो मैं हरदम ही माफ़ियाँ माँगता रहूँगा। आये, अच्छा लगा। पसंद आया तो और भी अच्छा लगा, कुछ सुधार भी कभी बताओगे तो बहुत अच्छा लगेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  26. kuchh gol-mal hai.......क्या स्वप्न भी सच्चे होतें है ?...भाग-५.,यह महानायक अमिताभ बच्चन के जुबानी.

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।