मंगलवार, जून 19, 2012

शीतल दाह ..

ध्यान नहीं गया था तो अलग बात थी, जबसे इस बारे में सोचना शुरू किया तबसे और कुछ सूझ ही नहीं रहा था| मेरा ख्याल हर अगले पल में और मजबूत होने लगा था| दर्पण के इस इस्तेमाल की तरफ पहले किसी ने क्यों नहीं सोचा? सिर्फ सूरत निहारने के अलावा इसका और भी कुछ इस्तेमाल हो सकता है, क्या इस ओर किसी का ध्यान ही नहीं गया? अब मैं खुद को निरीह नहीं मान रहा था, मैं खुद को एक समुराई मानने लगा था| एक ऐसा समुराई जिसके हाथ में तलवार नहीं एक दर्पण होगा| जब कोई अपनी बातों से, तर्कों से मुझे निरूत्तर कर देगा या मुझे लगेगा कि वो मुझसे बेहतर है जोकि यकीनन वो होगा भी, मैं उसकी नजर के  सामने अपना हथियार लहरा दूंगा| उसकी जो भी, जैसी भी कमी होगी, जोकि यकीनन होगी ही,  उसे ठीक अपनी आँखों के सामने नाचती दिखेगी| मैं सिर्फ ये कहूँगा कि दर्पण झूठ नहीं बोलता|  सामने वाले का आत्मविश्वास डगमगाएगा, और उसके दंभ भरे गुब्बारे में पिन चुभ जायेगी| फिर मैं अपने तर्को से, बेशक वो कितने ही भोथरे क्यों न होंगे, उसके परखच्चे उड़ा दूंगा| मेरा मन, मेरी बुद्धि, मेरा चातुर्य सब मेरी सोच की हिमायत भी कर रहे थे और उसे सान  पर भी चढ़ा रहे थे|  हाँ, मैं सर्वोत्तम, मैं सर्वश्रेष्ठ हूँ जिसने एक साधारण से दर्पण की सहायता से सभी पर जीत हासिल कर ली| अब मुझे कोई नहीं रोक सकेगा| अपनी वाहवाही खुद भी करूँगा और दूसरों से भी करवाऊंगा| मुझे दर्पण पर बहुत प्यार आ गया और मैं उसे चूमने लगा| मेरी बाहर की आँखें भी बंद थीं और जैसे ही मैंने दर्पण को चूमा, या कहूँ कि खुद को चूमा, मेरे ओंठ जल उठे| बेसाख्ता ही मेरी आँखें खुल गईं और दर्पण में मैंने एक कुत्सित,.वीभत्स चेहरा देखा| कौन है ये? दर्पण ने मुझे बताया कि ये मैं ही था|  और यह भी बताया कि दर्पण झूठ नहीं बोलता| और फिर इतने में ही बस नहीं हो गई, दर्पण ये भी बोला कि उसका इंसान की तरह का धर्म नहीं होता जैसे बन्दूक की गोली का भी नहीं होता|  उसके निशाने पर जो भी आ जाये, वो लिहाज नहीं करती वैसा ही दर्पण के साथ था| मेरे कानों में जैसे लावा गिर रहा था, अंतर तक मैं दाह महसूस करने लगा| मेरा चेहरा अब दर्पण में और भी वीभत्स दिखने लगा था| मैंने दर्पण को जमीन पर पटक दिया और उसके टुकड़े टुकड़े हो गए| न चाहते हुए भी उन टूटी हुई किरचों में मुझे अपने अनगिनत अक्स दिखने लगे थे| मुझे लगने लगा कि ये आवाज दर्पण की नहीं, मेरी आत्मा की थी| अंतर का दाह अब शीतलता की सरिता बन गया था| कुछ देर में विश्वविजय का मेरा ख़्वाब मुझे भूल गया था लेकिन मुझे कोई अफ़सोस नहीं था क्योंकि  दर्पण के उन टूटे हिस्सों में फिर से एक सामान्य चेहरा दिखने लगा था| 
                                                     

58 टिप्‍पणियां:

  1. संजय जी ,
    निशाने पर कौन था और क्यों था ? कहना बड़ा कठिन है :)

    ...वैसे आपने यह पोस्ट अंधों का ख्याल किये बगैर लिखी है ! मेरा मतलब पक्षपात करते हुए :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. निशाने पर मैं खुद था अली साहब, और बस यूं ही था| मेरे लिए आसान है कहना:) पक्षपात की बात मानी जा सकती है:)

      हटाएं
  2. दर्पण किरचें और अक्स |
    सटीक प्रस्तुति |
    आभार भाई जी ||

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुत्सित और वीभत्स ....
    जमे नहीं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. दर्पण हथियार है लेकिन तब तक ही जब तक उसमे अपना चेहरा देखा जाये।

    पैराग्राफ़ मे लिखने से पाठक को सहजता से पढ़ने मे मदद मिलती है।(यह मेरी निजी राय है और बिना मांगे दी गयी सलाह भी :) :) )

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपकी राय सर आँखों पर अरुणेश जी, भविष्य में अधिक ध्यान रखा जाएगा|

      हटाएं
  5. हे राम - आपने तो दर्पण ही दिखा दिया आज |

    :(

    उत्तर देंहटाएं
  6. बुत हाई फाई लिखा है संजय जी , सब कपार के ऊपर से गुजर गया .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अच्छे बैट्समैन बेकार गेंद को कपार के ऊपर से निकल ही जाने देते हैं कमल भाई, i must say, well saved.

      हटाएं
  7. विलक्षण चिंतन और अद्भुत दृष्टि!!

    लोग बडे चतुर समुराई है, दर्पण को दूसरों के सामने ही लहराते है। दर्पण के पिछे ही अपना चहरा छुपा कर मंद मंद मुस्काते है। न तो भूल से उसमें अपना मुख देखते है और देख भी ले तो न दाह उत्पन्न होता है न शिकन भर आती है।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मुझे कालिदास बनाकर मानेंगे आप भी:)
      पहले कई बार प्रतुल भाई मेरी बातों की सकारात्मक व्याख्या कर देते थे, एक न एक विद्वान फंसा ही लेता हूँ मैं:)

      हटाएं
    2. अपने आप फँस जाते हैं
      पर वो जानबूझकर हनुमान जी की तरह फंसते है

      हटाएं
  8. फिर से चर्चा मंच पर, रविकर का उत्साह |

    साजे सुन्दर लिंक सब, बैठ ताकता राह ||

    --

    बुधवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  9. दो बार पढने के बाद लगा कि ये पोस्ट अपनी खोपडी से बाहर है

    जै रामजी की

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आओगी समझ प्यारे, धीरे धीरे| अंगरेजी वाली की तरह धीरे धीरे असर करेगी:) जय राम जी की|

      हटाएं
  10. ये पोस्ट अपनी खोपडी से बाहर है


    jai baba banaras....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब तो हमारी खोपड़ी से भी बाहर है कौशल जी:)

      हटाएं
  11. यदि ये पोस्ट किसी को ध्यान में रख कर लिखी गई है तो जिस पर लिखी गई है उससे इस बात की माफ़ी की मुझे बिल्कुल भी नहीं पता की ये पोस्ट किस पर लिखी गई है मेरी टिप्पणी सिर्फ पोस्ट पर लिखी बात पर है |
    मुझे लगता है की की दर्पण में अपनी सच्चाई देख कर वो डरता है जो खुद को श्रेष्ठ और अच्छा समझने का भ्रम में हो और ज्यादातर समाज उसमे ये भ्रम भरता है क्योकि समाज अच्छा और श्रेष्ठ होने का एक खाचा बना देता है, ( जो बस उसके नजर में ठीक हो ) और जो उसमे फिट है वही श्रेष्ठ है , भूल से कई लोग भी अच्छा बनने के चक्कर में उसी खाचे में खुद को फिट का श्रेष्ठ समझने लगते है | और ऐसे सभी अच्छे भले लोग ही दूसरो को ज्यादा दर्पण दिखाते है और अपना चेहरा देख डर जाते है | उन्हें किसी भी चीज से डर नहीं लगता है जिन्हें अपनी कमजोरियों और बुराइयों का पुरा भान और ज्ञान दोनों होता है वो आये दिन दूसरो को दर्पण नहीं दिखाते फिरते है और ना खुद देखते है क्योकि उन्हें समाज दुनिया सभी की बदसूरती का भान बिना दर्पण के होता है , वो जानते है बदसूरती और बुराई भी समाज का ही हिस्सा है जिसे पूरी तरह से ख़त्म नहीं किया जा सकता है , उसे स्वीकारिये सबको संत बनाने की सोच से बाहर आइये , ये जरुरी नहीं जो आप की नजर में बुरा हो वो वास्तव में बुरा ही हो |

    और हा झेलाना बस आप को ही नहीं आता है दूसरे भी झेलाने की शक्ति रखते है और हो सकता है आप से ज्यादा सो झेलिये ये टिप्पणी |

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. देखा, मंगवा ली न माफी? ये पोस्ट मेरे ऊपर ही थी इसलिए आपने जो माफी माँगी, आपको दे देते हैं:) मैं किसी को बुरा नहीं कहता खुद के सिवा, कहा हो तो प्रूव कीजिये| और झेलने झेलाने की खूब कही, ये झेलना भी कोई झेलना है? :)

      @ नामराशि-
      बड़े हैप्पी हैप्पी दिख रहे हो जनाबे आली, चक्कर क्या है?

      हटाएं
    2. दो बाते जब माफ़ी दे दी है तो सफाई क्यों दूँ दूसरे मुझे ज्यादा साफ सफाई पसंद नहीं है , पर जानती हूँ की आप बड़े साफ सफाई पसंद है सो सफाई दे दे रही हूँ | टिपण्णी के पहली लाइन का अर्थ है की टिप्पणी को व्यक्ति विशेष से न जोड़ा जाये फिर आप खुद से क्यों जोड़ रहे है , चुकी बात आपने खुद को संबोंधित करके लिखा है तो टिप्पणी भी आप को संबोधित करके आप की ही शैली में लिखी गई है, आप के लिए नहीं लिखी गई है | ये इस तरह की आप की अकेली की पोस्ट नहीं है ये दर्पण वाली पोस्ट कई जगह पढ़ चूँकि हूँ तो जवाब उन सभी के लिए ही था ये बताने के लिए की सुन्दरता और कुरूपता इन दो खाने में हम समाज को नहीं बाँट सकते है बीच में वो भी है जो न सुन्दर है न कुरूप बिल्कुल सामान्य है और वो भी जो परिस्थिति के हिसाब से व्यवहार करता है और समाज के लिए कभी कुरूप तो कभी सुन्दर बना जाता है |

      हटाएं
  12. सच तो ये है, दर्पण कभी सच नहीं बोलता...
    बाएँ को दायें और दायें को बाएँ दिखाता है... :):)
    ये दर्पण जो जगह जगह सबको उनका चेहरा दिखाता फिरता है...उसे भी मालूम नहीं कि जो वो दिखा रहा है, वो 'सीधा' नहीं है..
    हाँ नहीं तो..!!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप सही कहती हैं|
      आप भी सही कहती हैं|
      आप भी सही ही कहती हैं, हाँ नहीं तो...:)

      हटाएं
    2. पहले मैं सोचती थी :
      शायद आप कुटिल हैं
      फिर लगा आप ही कुटिल हैं
      अब लगता है आप कुटिल ही हैं
      यहाँ 'कुटिल' 'कौटिल्य' के अपभ्रंश के रूप में लिया जाए..हाँ नहीं तो...:):)

      हटाएं
    3. 'नौ दिन चले अढाई कोस' को भी पीछे छोड़ दिया जी, यहाँ ढाई साल में रहे वही कुटिल के कुटिल, वैसे ये तो हम पहले दिन से ही कह रहे हैं:)
      पहले, फिर, अब तो जान लिया, अल्ला जाने क्या होगा..

      हटाएं
  13. उत्तर
    1. खुदा तो खैर ही करता है बाबाजी, ये तो हम बंदे हैं जो मानते नहीं|

      हटाएं
  14. गीत ये भी ठीक लगा मुझे---
    http://youtu.be/c44Ah24hr9M

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. येस, ये गाना ज्यादा सही रहता| उस समय ध्यान नहीं आया था ये:(

      हटाएं
  15. वाह. पढ़ कर याद आया, कुछ इसी तरह इतिहास में भी होता रहा है, शायद मक्‍खलिपुत्र गोशाल था वह.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. और विवरण मिले तो आनंद आये राहुल सर|

      हटाएं
    2. हां! राहुल जी, मक्‍खलिपुत्र गोशालक का उद्धरण जानने की चाहना है.

      हटाएं
  16. दर्पण देखता हूँ तो अपना हालचाल अवश्य पूछता हूँ...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप तो दर्पण दर्शन में भी नए आयाम ढूंढ लेंगे प्रवीण जी|

      हटाएं
  17. अरे नहीं जी. दर्पण और कैमरा झूठ भी बोलते हैं. होस्टल में हमारे कमरे में लोग चेहरा देखने आते स्टाइल में. तो मेरा रूम पार्टनर पीछे से कहता कि... अरे ये आइना ही गलत है इसमें सभी स्मार्ट दीखते हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सही कहता था आपका रूम पार्टनर, पीछे से :)

      हटाएं
  18. मुझ लगता है दर्पण अंधे के लिए बेकार है, कमजोर आँख वाले के लिए चश्मे का मोहताज है और जिनकी आँखें पूर्णतया स्वस्थ हैं उनसे घबड़ाता फिरता है।:)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ...अच्छा नहीं दिखाया तो तोड़कर फेंक देगा।:)

      हटाएं
  19. कविता भी, दर्शन भी... बढ़िया!

    उत्तर देंहटाएं
  20. आत्म श्लाघा से ग्रस्त व्यक्ति खुद कभी दर्पण नहीं देखता औरों को दिखाता रहता है .अपनी शेव बनाके साबुन दूसरे के मुंह पे फैंकना ही इस दौर की रवायत है ... . अच्छी प्रस्तुति .कृपया यहाँ भी पधारें -


    बुधवार, 20 जून 2012
    क्या गड़बड़ है साहब चीनी में
    क्या गड़बड़ है साहब चीनी में
    http://veerubhai1947.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  21. जब कोई समझाने से मानता ना हो, उसे आईना दिखाना जरुरी होता है, क्योंकि सच्चाई आखिर सच्चाई होती है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. कभी कभी मेरा दर्पण भी बहुत झूठ बोलता है.. जब वह मुझे बेहद खूबसूरत दिखता है, बॉलीवुड के हीरो की माफिक...
    हा हा हा...

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. तो सही दिखाता है आपका दर्पण तो, आप हीरो दीखते हो लोकेन्द्र भाई|

      हटाएं
  23. भैया आपके आत्म अवलोकन के साथ आत्म मंथन की बारीकी पसंद आई .
    खुद से वही बातें करता है जो अपना सच्चा मित्र होता है .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. खुद से दीवाना भी बात करता है सिंह साहब|

      हटाएं
  24. हम्म!
    ह्म्म्म!
    ह्म्म्मम्म!
    जरा देर पहले लिख के देखा था, दर्पण लिखे को भी वीभत्स दिखाता है, लेकिन फिर कोई प्रतिबिम्ब अस्तित्व होता तो भी ऐसा सोचता हमारे लिए शायद।
    जबरदस्त!

    उत्तर देंहटाएं
  25. गहरी बात! समझने में प्रयासरत हूँ!
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  26. भाई संजय जी, जरूरी नहीं कि दर्पण हमेशा ही समतल हो.
    विषम तल होगा तो अपना चेहरा भी पहचानना
    भूल जायेंगें जी..

    गाना में यह स्पष्ट करना चाहिये कि दर्पण कौन से वाला है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. महाराज धृतराष्ट्र और आईने का क्या मेल?:)

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं

सिर्फ़ लिंक बिखेरकर जाने वाले महानुभाव कृपया अपना समय बर्बाद न करें। जितनी देर में आप 'बहुत अच्छे' 'शानदार लेख\प्रस्तुति' जैसी टिप्पणी यहाँ पेस्ट करेंगे उतना समय किसी और गुणग्राहक पर लुटायें, आपकी साईट पर विज़िट्स और कमेंट्स बढ़ने के ज्यादा चांस होंगे।